नागरिकता संशोधन कानून, 2019

नागरिकता संशोधन बिल नागरिकता अधिनियम 1955 के प्रावधानों को बदलने के लिए पेश किया जा गया है, जिससे नागरिकता प्रदान करने से संबंधित नियमों में बदलाव होगा। नागरिकता बिल में इस संशोधन से बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए हिंदुओं के साथ ही सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाइयों के लिए बगैर वैध दस्तावेजों के भी भारतीय नागरिकता हासिल करने का रास्ता साफ हो जाएगा।

Get real time update about this post category directly on your device, subscribe now.

satyanaryan singh

गाँधी मैदान में जमा हुए ‘गांधीवादी’ नेता, नागरिकता कानून के समर्थकों को गोली मार देने का किया आह्वान

पटना - राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित सभा में वामदल के नेतृत्व में नागरिक संशोधन अधिनियम (सीएए)...

Arif Mohammad Khan

दूसरों पर अपने विचार थोपने के लिए सड़क अवरुद्ध करना भी आतंकवाद: आरिफ मोहम्मद खान

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने दिल्ली के शाहीन बाग प्रदर्शकारियों पर कटाक्ष करते हुए शुक्रवार को कहा कि...

Giriraj Singh BJP

जब देश का विभाजन धर्म के आधार पर हुआ तो मुसलमानों को पाकिस्तान चले जाना चाहिए था: गिरिराज

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बुधवार को बिहार के पूर्णिया में संवादाताओं से वार्ता के समय कहा कि 1947 के...

Supreme Court of India

शाहीन बाग: बच्चे की मृत्यु पर भड़के न्यायाधीश, चार महीने का बच्‍चा प्रदर्शन में जाएगा क्‍या?

नागरिकता संशोधन कानून और भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन के...

Supreme Court of India

शाहीन बाग पर सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि प्रदर्शनकारी सड़क अवरुद्ध नहीं कर सकते

नागरिकता संशोधन कानून के विरुद्ध शाहीन बाग में पिछले करीब दो महीने से चल रहे विरोध-प्रदर्शन के कारण बंद रास्ता...

Page 1 of 11 1 2 11

Recommended

Login to your account below

Fill the forms bellow to register

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.